सहकार : एक संस्कार

सहकारिता एक सुपरिचित और सामान्यसा पद है, जिसकी व्याप्ति इस जीवन के प्रायः सभी क्षेत्रों में है. सामान्य इस अर्थ में कि इसका अर्थ बूझने के लिए बहुत ज्यादा दिमागी कसरत की जरूरत नहीं पड़ती. न किसी खास किस्म की विशेषज्ञता की अनिवार्यता होती है. साधारण पढ़ालिखा, सामान्य बुद्धिविवेक का आदमी भी सहकारिता और उसके निहितार्थों को जानता और समझता है. इसलिए कि सहकार उसके लिए कोई नई बात नहीं है. समाज में रहना है तो दूसरों के साथ तालमेल बनाकर रहना ही पड़ेगा. अपने कंधे का भारी बोझ यदि बांटना है तो अपने कंधे भी किसी जरूरतमंद की मदद के लिए आगे करने होंगे. अपने जीवन के लिए दूसरों के जीवन के अधिकार का सम्मान करना भी आवश्यक है. तब बात घूमफिरकर सहयोग पर ही आ जाती है. हम कह सकते हैं कि सहयोग ही सहकारिता का आधारसिद्धांत है. इसी के कारण सहकार की व्याप्ति लोकस्तर पर सदैव रही है. सभ्यता के प्रारंभ से लेकर आज तक. आदिम मनुष्य सहयोग को भले ही उन अर्थों में पारिभाषित नहीं कर पाता हो, जिन अर्थों में हम आज इसे जानते हैं, मगर प्राकृतिक आपदाओं तथा जंगली जानवरों से सुरक्षा का भाव उसे अनायास ही दूसरों के निकट ले जाता था, वही संगठन की प्रेरणा बनता था, उसी से सहअस्तित्व की भावना पनपी. मनुष्य को समूह के रूप में, साथसाथ रहने की प्रेरणा मिली. सामाजिक संबंधों का विकास हुआ. सभ्यता जन्मी, संस्कारों का उद्गम हुआ, संस्कृति को नए आयाम मिले.

लोकजीवन में सहकार और सहयोग में प्रायः कोई अंतर नहीं किया जाता. इन्हें अक्सर एकदूसरे का पर्याय मान लिया जाता है. लोकमेधा की यह विशेषता भी है कि वह सामान्यीकरण द्वारा निष्कर्ष तक पहुंचती है. इसलिए उसके निष्कर्ष लंबे समय तक मान्य भी होते हैं. समाज और जीवन में सहयोग की अपरिहार्य मौजूदगी के कारण ही मानव सभ्यताओं और संस्कृतियों का विकास हुआ है. विश्वग्राम की संकल्पना के मूल में भी सहयोग और सहकार का ही योगदान है. यही मानवीकरण का कारक तत्व, मनुष्यता की अनिवार्य विशेषता है.

अपने रोजमर्रा के जीवन में मनुष्य को अनेक स्तर पर, जानेअनजाने अनेक व्यक्तियों के साथ सहकारभावना के साथ पेश आना पड़ता है अथवा दूसरे उनके साथ सहकारभावना से सहयोग करते हैं. इस तरह सहकारिता समान कल्याणकारी उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए समूहबद्ध और संकल्पनिष्ठ होकर काम करने का नाम है. चूंकि कर्तव्य के प्रति वास्तविक निष्ठा बाह्यारोपित नहीं हो सकती. उसके लिए आंतरिक प्रेरणा और स्वयंस्फूर्ति आवश्यक हैं—अतएव सहकार के लिए स्वैच्छिक समर्पण और समूहबद्धता अनिवार्य शर्त हैं. यही वह कसौटी हैं जिनके आधार पर सहकारभावना की गहराई की समीक्षा संभव है, उसके प्रति समर्पणभाव को परखा जा सकता है और किसी समूह की सफलता एवं दीर्घजीविता का अनुमान लगा पाना मुमकिन होता है. यहां समूहबद्धता का आशय उपलब्ध संसाधनों का संतुलित एवं न्यायिक तालमेल है, जबकि समर्पण से हमारा मंतव्य, समूह की प्रत्येक इकाई द्वारा अपने संपूर्ण संसाधनों तथा मनोयोग के साथ शेष समूह के साथ सहभागिता, दायित्वों के न्यायिक संवितरण के साथसाथ, अपने हितों एवं महत्त्वाकांक्षाओं के सामान्यीकरण से है.

जाहिर है कि सहकार के दौरान व्यक्ति अपने हितों को सामूहिक हितों के साथ जोड़ने लगता है. सबके कल्याण में ही उसको अपने कल्याण की प्रतीति होने लगती है. तभी वह सामान्य हितों की प्राप्ति के लिए अपनी ओर से यथासंभव सहयोग प्रदान करता है. सहकारी समूह में व्यक्ति का अपने समूह के प्रति सहयोग, उसके हितों का सामूहिक हितों के साथ संविलयन पूरी एकात्मकता एवं निहित संभावनाओं के साथ होता है. समूह भी व्यक्तिविशेष के हितों को अपना मानते हुए उसकी पूर्ति हेतु समेकित प्रयास करता है. परिणामतः व्यक्ति समूह का पर्याय बन जाता है—और समूह अपनी संपूर्ण शक्ति एवं विशेषताओं के साथ व्यक्तिमात्र में ढल जाता है, जिसमें प्रत्येक व्यक्ति के अनुभव, कार्यक्षमता, बुद्धिमत्ता, कौशल एवं उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम योगदान संभव होता है. दूसरे शब्दों में यह व्यक्ति के सफल समाजीकरण और समाज के पूर्ण एकात्मीकरण की अवस्था है.

इस तरह सहकार नामक सामान्यसा पद अपने भीतर विराट अर्थवत्ता एवं दायित्वभावना को समेटे हुए है. दूसरे शब्दों में सहकार या सहकारिता अर्थ से ज्यादा अर्थचेतना एवं संकल्पबोध का नाम है. ऐसी अर्थचेतना जो मानवीकरण की साथसाथ विस्तार ग्रहण करती है; और संकल्पबोध ऐसा जो नैतिकता से उद्भूत एवं अनुप्रेरित हो. यह एक ऐसी साधना है जो मनुष्य को मनुष्य के करीब लाने का काम करती है.

मनुष्य चूंकि एक सामाजिक प्राणी है, विवेकशीलता जिसका गुण है, अतएव सहकार को हम उन्नत सामाजिकता का लक्षण भी कह सकते हैं. सामान्य अर्थों में तो यह है भी. सामान्यतः सहकारिता और सहकारी समूहों का अभिप्राय, सामूहिक कल्याण की भावना के साथ वैधानिक व्यवस्था के अंतर्गत गठित, स्वैच्छिक समूहों तथा उनके द्वारा किए गए कल्याण कार्यों से है. इसकी वजह है कि सहयोग; जो कि सामाजिक संबंधों का आधार सिद्धांत है—जिसपर कुल सामाजिकता की नींव टिकी है, वह किसी भी समाज की आधारशिला होता है, वही मनुष्यता को गतिमान बनाता है. सहयोग के अभाव में समाज का एक बने रहना तो दूर, उसका निर्माण तक संभव नहीं है. आपसी सहयोग एवं सहकार के आधार पर मनुष्य ने अनेक बार विषम परिस्थितियों पर विजयश्री हासिल की है. सफलता एवं कीर्ति के अनेक मानक स्थापित किए हैं. उन्नीसवीं शताब्दी के पूर्वार्ध में, भीषण गरीबी एवं आर्थिक विसंगतियों से जूझते ब्रिटिश मजदूरों के एक समूह ने राबर्ट ओवेन से प्रेरणा लेते हुए एक उपभोक्ता संगठन की शुरुआत की थी, उन्हें मिली सफलता ने ही आगे चलकर सहकारिता आंदोलन का मार्ग प्रशस्त किया.

इस प्रकार सहकारिता का अर्थ मान्यताप्राप्त सहकारी समूह द्वारा किसी एक अथवा एक से अधिक उद्देश्यों की प्राप्ति हेतु किए गए कर्तव्य से जाना जाता है. सहकारी समूहों के प्रमाणन एवं संस्थानिकीकरण की व्यवस्थाएं सरकारी स्तर पर दुनिया के प्रायः सभी देशों में हैं. भारत में औपचारिक सहकारिता आंदोलन की शुरुआत का श्रेय यद्धपि तत्कालीन अंग्रेज सरकार को ही जाता है, तथापि जनसाधारण के लिए सहकार कोई कर्तव्य अथवा व्यवस्थाविशेष न होकर, उसकी पूरी जीवनपद्धति और सामाजिकता की पहचान होता है, जो उसके पूरे जीवन को प्रभावित एवं संचालित करता है. अपने समुदाय के साथ वह इतना अधिक घुलमिल जाता है कि सहकार उसको अपनी सभ्यता और संस्कारों का बेहद सामान्य और सुपरिचित हिस्सा जान पड़ता है. उसे लगता ही नहीं कि वह अपनी सामान्यचर्या से बाहर का काम कर रहा है. इसीलिए दुनिया के अन्य हिस्सों की तरह भारतीय शहरोंगांवों में भी सहकारिता आंदोलन का प्रभाव देखने को मिलता है. विशेषकर आजादी के बाद, सामूहिक खेती, सहकारी ऋण समिति, आवास समिति, सहकारी बैंक जैसे पदों से भारतीय नागरिक भलीभांति परिचित हो चुके हैं. आवास, ग्रामीण विकास, चीनी एवं दुग्ध उद्योग, शिक्षा, सीमेंट, मछलीपालन जैसे अनेक क्षेत्र हैं, जहां सहकारी क्षेत्र की उपलब्धियां सरकारी और निजी क्षेत्र से भी, कहीं अधिक हैं. यदि प्रति व्यक्ति आनुपातिक निवेश के आधार पर देखा जाए तो संगठित क्षेत्र उसके आगे कहीं नहीं टिकता.

सहकारी समूह के लक्षण

सहकारिता के उद्देश्य, उसकी मूल संकल्पना तथा व्यापकता को देखते हुए सहकारी समूहों के वैधानिकीकरण की आवश्यकता सैद्धांतिक तौर पर अनपेक्षित एवं अर्थहीन जान पड़ती है. इसलिए कि सहयोग एवं सहकार हमारे लोकचरित्र का हिस्सा रहे हैं, जिन्हें सामाजिकता के अनिवार्य लक्षण की तरह व्यवहार में लाया जाता रहा है. लेकिन जब कोई सहकारी समूह उत्पादन अथवा सेवाकर्म से जुड़ता है तथा अपने उत्पाद, सेवाकार्य के माध्यम से बाजार में हिस्सेदारी की अपेक्षा रखता है, तब स्वाभाविक रूप में उसका मुकाबला नियोजित एक संगठित क्षेत्र के कतिपय बड़े और संसाधनसंपन्न उत्पादकों से होता है. अतः बाजार का विश्वास प्राप्त करने और वहां लंबे समय तक टिके रहने के लिए आवश्यक है कि सहकारी समूह भी संगठित एवं नियोजित उत्पादनव्यवस्था को अपनाएं. उसके लिए अधिक पूंजी तथा अन्य संसाधनों की आवश्यकता पड़ती है. ऐसे में सहकारी समूहों का वैधानिकीकरण तथा उनके उत्पादों का प्रमाणन, सामयिक आवश्यकता बन जाता है. समूह का औपचारिक गठन, उसके उद्देश्यों के निर्धारण तथा उसकी कार्यप्रणाली का मानकीकरण करने के लिए अत्यावश्यक है. हालांकि उसके बाद भी संगठन की सफलता का सारा दारोमदार उसके सदस्यों के सहयोग, कार्यकुशलता, बौद्धिक क्षमता एवं संसाधनों की उपलब्धता पर निर्भर करता है.

मनुष्य मनुष्य की मानसिकता का एक सहज लक्षण है. मनुष्य की सहयोगकारी प्रवृत्ति को बढ़ावा देने वाले कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं

1. सीमित क्षमताएं

2. संसाधनों की अपर्याप्तता

3. असुरक्षाबोध

4. महत्त्वाकांक्षाएं

5. नैतिकता के दबाव

6. प्राकृतिक आपदाएं तथा अनिश्चितता.

उपर्युक्त के अतिरिक्त परोपकार की प्रवृति, सतत परिवर्तनशील सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक परिस्थितियां, भौगोलिक विशेषताएं आदि उन महत्त्वपूर्ण कारकों में से हैं, जिनसे व्यक्ति अपने हितों का सामान्यीकारण करते हुए, उनका शेष समाज के हितों के साथ तालमेल करने को विवश हो जाता है. यही भावना सहकारिता को जन्म देती है— इसकी महत्ता को रेखांकित करते हुए इसे आगे ले जाने की प्रेरणा बनती है और आगे चलकर उसकी मुख्य मार्गदर्शक भी सिद्ध होती है.

सहकार के प्रेरकतत्व

सभ्यता के प्रारंभ से ही सहकार मनुष्य के मूल स्वभाव का अभिन्न हिस्सा रहा है. हालांकि सहकार को प्रेरित करने वाले कारक, उसकी प्रेरणाएं समयानुरूप परिवर्तित होते रहे हैं. आगे हम सहकार के सहकारिता के प्रेरक तत्वों पर कतिपय विस्तार से चर्चा करेंगे—

1. सीमित क्षमताएं

सुख की कामना करना मनुष्य की एक सहज प्रवृत्ति है. हर प्राणी अपने जीवन को सरल, सुखी और आनंदमय बनाना चाहता है. उसका सारा प्रयास भी इसी दिशा में होता है. अपने सुखोपभोग के लिए अधिकतम साधन जुटाने का सतत प्रयास करते रहना मनुष्यमात्र की प्रवृत्ति होती है. चूंकि प्रत्येक मनुष्य की मानसिक संरचना भिन्न परिस्थितियों में निरंतर विकासमान रहती है, अतएव सुख और उसके उपादानों के प्रति धारणा भी व्यक्तिसापेक्ष होती है, यानी किसी एक वस्तु या स्थिति को कोई आदमी बिलकुल नापसंद कर सकता है, उससे बहुत जल्दी ऊब सकता है, जबकि दूसरा उन वस्तुओं या स्थितियों को लंबे समय तक अपने लिए अनुकूल और सुखदायी मान सकता है.

सुख और उसके उपादानों के प्रति भले ही रुचिवैभिन्न्य हो, मगर सुख की लालसा सभी मनुष्यों में लगभग एकसमान होती है. परंतु प्रत्येक व्यक्ति में इतना सामथ्र्य नहीं होता कि वह अपनी इच्छाआकांक्षाओं के अनुरूप सुख के साधन जुटा सके. ये सीमाएं प्राकृतिक और परिवेशगत, किसी भी प्रकार की हो सकती हैं. इन्हीं अक्षमताओं के कारण व्यक्ति देश एवं समाज पर अवलंबित रहता है. सहकार और सहकारिता की आवश्यकता इसी अभाव की पूर्ति के लिए पड़ती है. दुनिया के किसी भी व्यक्ति की कार्यक्षमता इतनी नहीं है कि वह दूसरों के सहयोग के बिना, अपने लिए सभी सुखसुविधाओं का प्रबंध करके, उनका आनंद उठा सके. आवश्यक संसाधनों और सुविधाओं से वंचन तथा उनके अर्जन की संकुचित सीमाओं का बोध, मनुष्य को समाज के प्रति विनम्र एवं आग्रहशील बनाता है, वही उसको उस दिशा में कार्यशील समूह की शरण में ले जाता है.

सहकारिता या समूह की शरण में जाते ही मनुष्य की सभी आकांक्षाओं की पूर्ति हो पाना आवश्यक नहीं है. सदस्य इकाइयों की महत्त्वाकांक्षाओं एवं उनके लिए संसाधनों की उपलब्धता को देखते हुए, समूह की भी सीमाएं हो सकती हैं. सामूहिकीकरण की इस प्रक्रिया में व्यक्ति और समूह दोनों को ही अपने हितों की आंशिक कुर्बानी देनी पड़ सकती है. अतः समूह से जुड़ने के साथ ही समय और संसाधनों की उपलब्धता के आधार पर, हितों के स्वैच्छिक सामान्यीकरण की प्रक्रिया भी प्रारंभ हो जाती है. वही मनुष्य को सहकार के लिए प्रेरित और निर्देशित करती है, वही उसकी आकांक्षाओं को विस्तार देने का काम करती है और कई बार वही नियंत्रक शक्ति के रूप में लोगों की अवांछित विचलन से सुरक्षा भी करती है.

2. संसाध्नों की अपर्याप्तता

किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए संसाधनों की आवश्यकता पड़ती ही है. किंतु यह जरूरी नहीं है कि प्रत्येक व्यक्ति के पास अपेक्षित संसाधनों की उपलब्धता सदैव बनी रहे, यानी उनका पूर्ण अथवा आंशिक अभाव हो सकता है. वैसी अवस्था में उस मनुष्य के पास विकास के लिए केवल दो रास्ते होते हैं— कि या तो संसाधनों के उपलब्ध होने तक वह हाथ पर हाथ रखे बैठा रहे अथवा उन सामथ्र्यवान लोगों के साथ समन्वित प्रयास करे, जिनके पास अपेक्षित संसाधनों का प्राचुर्य है, किंतु अन्य किसी अभाव के कारण वे अपने संसाधनों का पर्याप्त उपयोग नहीं कर पा रहे हैं.

पहली स्थिति मनुष्य के अवसाद एवं नैराश्य को बढ़ाती है, जबकि दूसरी प्रकारांतर में सामाजिकता को प्रगाढ़, दीर्घतर और मजबूत बनाने का काम करती है. पारस्परिक तालमेल तथा हितों के सामान्यीकरण से सामाजिक समन्वय एवं एकरूपता की गति को बढ़ावा मिलता है. संसाधनों का तालमेल तथा हितों का सहमतियुक्त सामान्यीकरण मनुष्यों को परस्पर करीब ले आता है, उनके नागरिकता बोध को विस्तार देता है, जिससे सामाजिक अंतर्विरोध कम होने लगते हैं तथा उनमें खप रही ऊर्जा निर्माण कार्यों में काम आने लगती है, जिससे विकास की प्रक्रिया गतिवान हो उठती है.

कभीकभी यह भी होता है कि किसी एक व्यक्ति के पास संसाधनवर्ग में कुछ चीजों की कमी होती है, जबकि दूसरे के पास उस वर्ग की चीजें बहुलता में होती है. मगर उसके पास भी कुछ अन्य वस्तुओं का अभाव हो सकता है; जो पहले अथवा किसी अन्य सदस्य के पास उसकी तात्कालिक आवश्यकताओं से अधिक हों. किसी अन्य व्यक्ति के पास भी संसाधनवर्ग के कुछ ऐसे उपस्कर अनुपलब्ध हो सकते हैं; जो अन्य सदस्यों के पास अतिरिक्त रूप में मौजूद हों, यानी हरेक के पास कुछ अभाव और कुछ उपलब्धताएं हो सकती हैं. दूसरे शब्दों में संसाधनों की उपलब्धता के बावजूद ऐसी स्थिति हो सकती है कि व्यक्ति या समाज अपेक्षित विकास से दूर हो. कई बार नेतृत्व की कमी, अकेलेपन की अनुभूतियां अथवा अनजाने डर भी व्यक्ति को विकास की प्रक्रिया से दूर रखते हैं. सहकारभावना सामाजिक अंतर्विरोधों, डरों, अकेलेपन की अनुभूतियों से उसकी रक्षा करती है, इसके फलस्वरूप वह दूसरों के साथ मिलकर, अपने लक्ष्य की प्राप्ति हेतु संगठित प्रयास कर सकता है. ऐसी स्थितियां आकस्मिक न होकर प्रायः घटती रहती हैं, अतएव संसाधनों की विरल अनुपलब्धता की स्थिति में भी, उपलब्ध संसाधनों के बेहतर तालमेल, आपसी संयोजन से काम निकाला जा सकता है. इस तरह सहकारभाव व्यक्ति और समाज दोनों की अनिवार्यता बन जाता है.

3. असुरक्षाबोध्

मनुष्य की आवश्यकताएं अनंत होती हैं. विज्ञापन, बाजार तथा विकास के अन्य मानक भी उनके रूप निरंतर बदलते रहते हैं. कुछ जरूरतों के बगैर उसका काम बहुत आसानी से सध जाता है, कुछ को वह अपनी प्राथमिकताओं में सम्मिलित करता है, जबकि बहुतसी जरूरतों के लिए उसको समाज के शेष सदस्यों पर निर्भर रहना पड़ता है, जिनके लिए वह दूसरों की मदद की कामना करता है. मदद पाने के लिए मदद करता भी है. कुछ आवश्यकताओं का वह इतना अभ्यस्त हो जाता है कि समूह से अलग रहने का विचार ही उसके मन में अनगिनत आशंकाओं को जन्म देने लगता है. यही आशंकाएं तथा परनिर्भरता की भावना, मनुष्य के भीतर इस एहसास को जन्म देती हैं कि उसका अस्तित्व बाकी मनुष्यों के साथ, उनके सान्निध्य में रहकर ही संभव है.

समूह से अलग होते ही उसका अस्तित्व संकट में पड़ सकता है अथवा उसको उन सुविधाओं से वंचित होना पड़ सकता है, जो उसे समूह का सदस्य होने के नाते प्राप्त हुई हैं, जिनके अभाव में वह अपने सुखी, संतुष्ट और सुरक्षित जीवन की कल्पना तक नहीं कर सकता. जैविक स्तर पर यह स्थिति स्त्रीपुरुषपरिवार और अन्यान्य सामाजिक संबंधों को जन्म देती है. इन्हीं से उसको समूह से जुड़े रहने की प्रेरणा मिलती है. आर्थिक स्तर पर भी सहकारी प्रयास पूरे समूह के स्वावलंबन और उसकी आत्मनिर्भरता को आगे बढ़ाते हैं. परिणामस्वरूप उस समूह से जुडे़ सदस्यों की निजी चिंताएं कम होने लगती हैं.

सहकारी समूह का गठन मनुष्य की इन्हीं आर्थिक, सामाजिक और जैविक आवश्यकताओं की भरपाई के लिए किया जाता है. प्राकृतिक तथा अन्यान्य आपदाएं भी मनुष्य के मन में असुरक्षाबोध में वृद्धि करती हैं, उनके कारण भी वह दूसरों की मदद के लिए मजबूर हो जाता है. उस समय समूह की ओर से अपने प्रत्येक सदस्य को सिद्धांततः यह आश्वस्ति होती है कि संकटकाल या जरूरत के समय कभी भी पूरा समूह उसके साथ है. साथ ही उसकी आकांक्षापूर्ति के लिए सततसदैव प्रयासरत भी. यह आश्वस्ति मनुष्य को उसके भविष्य, रोजमर्रा के तनावों, यहां तक कि उसकी तात्कालिक चिंताओं से मुक्त रखने में भी सहायक होती है, परिणामतः वह तनावरहित रहकर अपने सामाजिक एवं राष्ट्रीय दायित्वों का निर्वाह कर सकता है. राज्य के वैधानिक प्रावधानों के अंतर्गत होने के कारण सहकारी संस्थाओं, समितियों को स्वायत्त दर्जा प्राप्त होता है, अतः उसके कार्यक्रम राज्य समेत सभी संस्थाओं का ध्यान अपनी ओर खींचते हैं, जिससे उसको अपनी पहचान बनाना आसान हो जाता है.

4. महत्त्वाकांक्षाएं

महत्त्वाकांक्षाएं मनुष्य के मन में पलने वाली वे उच्चतर लालसाएं हैं, जिन्हें वह अपने सुखवैभव और अहं की संतुष्टि के लिए अपने कामनाजगत में बसाए रखता है. वे मनुष्य की तात्कालिक पहुंच से प्रायः दूर होती हैं, तो भी उसे लगता है कि वह उन्हें प्राप्त कर सकता है और एक न एक दिन वैसा होगा भी. ये प्रायः सकारात्मक होती हैं. इसलिए मनुष्य के जीवनलक्ष्यों के निर्धारण में सहायक होने के साथसाथ ये उसके जीवन को दिशा भी प्रदान करती हैं. मनुष्य अपनी उच्चाकांक्षाओं के प्रति संवेदनशील होता है. उसे लगता है कि उनकी उपलब्धता ही उसके ‘होने’ को सार्थक बना सकती हैं. महत्त्वाकांक्षाएं अनंत प्रकार की हो सकती हैं. वे उतनी ऊंची भी हो सकती हैं, जितनी मनुष्य की कल्पना की उड़ान, जिनकी पूर्ति बहुत दुष्कर बल्कि असंभव जैसी प्रतीत हो. वे बहुत क्षुद्रतर भी हो सकती हैं कि केवल दैनिक आवश्यकताओं तक सिमटकर रह जाएं. वे स्पष्ट और उजागर भी हो सकती हैं, इतनी कि समूह का प्रत्येक सदस्य अपने बाकी सदस्यों की महत्त्वाकांक्षाओं से परिचित और अंतरंग हो तथा नितांत गोपनीय भी. परंपरागत भारतीय समाज में संतोष और अपरिग्रह को आधार मानते हुए भौतिक प्रवृत्ति की महत्त्वाकांक्षाओं पर नियंत्रण रखने पर जोर दिया गया है. इसके बावजूद इच्छाओं एवं आकांक्षाओं के दबाव से मुक्त हो पाना मनुष्य के लिए आसान नहीं होता.

यह जरूरी नहीं है कि सभी मनुष्य अपनी उच्चाकांक्षाओं के प्रति गंभीर हों तथा उन्हें पूरा करने का सामथ्र्य भी रखते हों. परिस्थिति एवं स्वभावगत अंतर होने के कारण यह संभव भी नहीं होता. ऐसी अवस्था में समाज के बाकी सदस्यों के साथ तालमेल बनाने, संसाधन जुटाने, अपनी उच्चाकांक्षाओं का समूह के शेष सदस्यों की महत्त्वाकांक्षाओं के साथ सामान्यीकरण करने और उनकी संपूर्ति के लिए समन्वित प्रयास करने के लिए सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता पड़ती है. समूह, सहकार भावना को अपनाते हुए, उपलब्ध संसाधनों का नियोजन इस प्रकार करता है कि व्यक्ति को अपनेपन की अनुभूति होने के साथसाथ उसकी आकांक्षाओं के सफलीभूत होने की उम्मीद बढ़ जाती है. इससे उसके मन में आत्मविश्वास और सामाजिकता का विकास होता है. जो अंततः समाज को तनावमुक्ति और एकदिशीय गति प्रदान करता है; जिससे समूह अपनी ऊर्जा का प्रयोग अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कर सकता है.

यहां पर यह उल्लेख करना भी प्रसंगानुकूल होगा कि महत्त्वाकांक्षाएं हमारी प्रेरणाओं की उत्प्रेरक और विकास की नींव होती हैं. एक तरह से वे हमारा वर्तमान के प्रति असंतोष और भविष्य की कामनाएं हैं, जो मनुष्य को विकास के लिए प्रेरित करता है. महत्त्वाकांक्षाएं भी मनुष्य को परिवर्तन के लिए संप्रेरित करती हैं. इन्हें जन्म देने वाले कारक भौतिक सुविधाएं, आधुनिकतम खोजें, शिक्षा, आय के बढ़ते स्रोत, संचारतंत्र, नवीनतम प्रौद्योगिकी आदि हैं. महत्त्वाकांक्षाओं के पूरा न होने का डर व्यक्ति के भीतर हताशा एवं अवसाद की वृद्धि करता है. सहकारभावना से वह न केवल अपनी इच्छाओं के बीच संतुलन कायम रखने में सफल रहता है, अपितु शेष समाज के विकास में भी सार्थक भूमिका निभा पाता है. ध्यातव्य है कि अतृप्त आकांक्षाएं और दिशाहीनता से पैदा हुई कुंठा मनुष्य को भटकाव तक ले जाती है. उनपर नियंत्रण न होने पर वह उन रास्तों पर बढ़ जाता है, जो व्यक्ति और समाज दोनों के लिए अहितकर होते हैं.

सहकार भावना, मनुष्य की महत्त्वाकांक्षाओं का सामान्यीकरण करने के साथसाथ, उन हताशाओं से भी बचाती है जो उनके अभाव में पनपने लगती हैं तथा प्रकारांतर में कुंठा, अवसाद समेत व्यक्तित्व की अनेक कमजोरियों का कारण बनती हैं. सहकार के माध्यम से व्यक्ति की इच्छाओं का विकास संतुलित और समाजोपयोगी तरीके से होता है, वह व्याक्ति की इच्छाओं को नैतिक धरातल प्रदान करता है, जिससे नकारात्मक स्थितियों की संभावना न्यूनतम हो जाती है.

5. नैतिकता के आग्रह

मनुष्य की श्रेष्ठता उसकी विवेकशीलता में सन्निहित रहती है. वही उसको शेष प्राणीजगत से श्रेष्ठतर रखते हुए उसके व्यक्तित्व की विशिष्ट पहचान बनती है. इसके अतिरिक्त प्रेम, श्रद्धा, आस्था, सचाई, सहयोग, समर्पण, परोपकार, परदुःखकातरता, सहानुभूति जैसे कई उदात्त मानवीय गुण हैं, जो मनुष्यता के आधारस्तंभ तो हैं ही, ये मनुष्य को नैतिक ऊंचाई प्रदान करने के साथसाथ समाज के साथ उसका तालमेल बनाए रखने में भी सहायक सिद्ध होते हैं. चूंकि अकेले आदमी की नैतिकता कोई मायने नहीं रखती. मनुष्य की चेतना की परख समूह के बीच ही हो पाती है. दूसरों के साथ काम करने, उनके साथ सहयोग करने की प्रवृत्ति मनुष्य को आत्मतुष्टि प्रदान करती है. इससे उसका आत्मविश्वास बढ़ता है. आत्मसंतोष के लिए व्यक्ति एक ओर जहां दूसरों को कष्ट पहुंचाने से बचने लगता है, वहीं जनकल्याण के कार्यक्रमों में रुचि भी दर्शाता है. उसे अपना होना, दूसरों के होने में नजर आने लगता है, यही प्रवृत्ति शेष समूह के लिए प्रेरणास्रोत भी बन जाती है.

सहकारिता चूंकि आधुनिक विचारधारा है और विचारधारा से भी अधिक यह एक उपक्रम है, जो मनुष्य को न केवल उसके दायित्व का एहसास दिलाने का कार्य करता है; साथ ही उसको समाजप्रदत्त जिम्मेदारियों का निर्वाह करने का अवसर भी प्रदान करता है. यह मनुष्य को उन कार्यों से सक्रिय रूप से जुड़ने का अवसर भी देता है, जिनके साथ सामूहिक हित जुड़े हों. इस कारण कभीकभी नैतिक दबाव भी व्यक्ति को सहकारी प्रयासों की ओर प्रेरित करते हैं. स्थानस्थान पर विभिन्न उद्देश्यों हेतु कार्यरत सहकारी समितियां, जनकल्याण की भावना के साथ गठित संगठन और संस्थाएं तथा उनके द्वारा संचालित हजारों कल्याण कार्यक्रम, मनुष्य की नैतिक प्रेरणाओं का ही परिणाम है.

यह मानना भी भारी भूल होगी कि केवल विकसित और सुशिक्षित समाज ही नैतिक दबावों को महसूसते हुए सहकारी प्रयासों की ओर अग्रसर होते हैं. बल्कि आम और रोजमर्रा की जिंदगी में अत्यंत संघर्षशील लोग भी अपनी विवेकशीलता और सूझबूझ के बल पर सहकारी प्रयासों में कामयाब होते रहे हैं. वह भी बिना किसी लाभकामना के. शिक्षा, स्वास्थ्य, आदिवासी कल्याण, दलितोद्धार, बालअधिकार, श्रमिक कल्याण, ग्रामीण ऋण व्यवस्था, स्त्रीचेतना जैसे क्षेत्रों में हजारों समिति एवं संस्थाएं सहकारकर्म कर रही हैं. कई बार तो उन क्षेत्रों में भी सहकारी आंदोलन की धमक सुनाई पड़ने लगती है, जो आधुनिक शिक्षा और वैचारिक चेतना से दूर हैं, जहां सामान्यजन उसकी अपेक्षा भी नहीं कर सकते.

उपर्युक्त के अतिरिक्त राजनीतिकआर्थिक परिस्थितियां, सामाजिक चेतना, नैतिकता के आग्रह, परोपकार की भावना, करुणा, मैत्रीभाव जैसे बहुत से कारक हैं; जो मनुष्य को सहकारी आंदोलन में हिस्सेदारी की प्रेरणा दे सकते हैं.

6. प्राकृतिक आपदाएं तथा अनिश्चितता

प्राकृतिक आपदाएं एवं अनिश्चितता मनुष्य के जीवन में एक बड़ी चुनौती हैं. ये चेतावनी के रूप में मनुष्य को जहां एक ओर सजग और चैतन्य बने रहने के लिए प्रेरित करती हैं, वहीं मनुष्य के भीतर भय, निराशा, कुंठा और चिंता को बढ़ावा भी देती हैं, जो मनुष्य को अस्थिर और बेचैन बनाते हैं. ये अनिश्चितताएं किसी भी रूप में मनुष्य के सामने उपस्थित हो सकती हैं. इनके कारण प्राकृतिक और गैरप्राकृतिक दोनों ही तरह के हो सकते हैं. प्राकृतिक आपदाओं तथा अन्यान्य कारणों से उत्पन्न अनिश्चितताएं, दुर्योग की संभावना मनुष्य के मन में डर और अविश्वास पैदा करती है, जिसके परिणामस्वरूप वह अपने भविष्य के प्रति शंकालु हो जाता है. ऐसे में वह अपने लिए सहारे की खोज करता है. अगर उचित वातावरण न मिले तो दूसरों के प्रति अविश्वास, डर और अनिश्चितताएं मनुष्य को स्वार्थी भी बना सकती हैं, जिससे उसके मन में भविष्य के लिए अधिकाधिक संचयन तथा दूसरों से दुराव की स्थितियां पैदा हो सकती हैं. इन परिस्थितियों से घिरे मनुष्य को उन लोगों की ओर से मदद मिलने की संभावना सर्वाधिक होती है जो उसी की भांति अपने भविष्य को लेकर शंकालू हैं. वैसी स्थिति में वे सभी परस्पर तालमेल रखते हुए समन्वित प्रयास करते हुए देखे गए हैं. एक जैसी परिस्थितियों का शिकार होने के कारण उनके सामूहिक प्रयास में सफलता की संभावना भी अधिक होती है.

सामूहिक प्रयास और सहकारी समितियों के गठन के पीछे, अन्यान्य कारणों के अतिरिक्त मनुष्य का यह विश्वास भी होता है कि संकट के समय वह अकेला नहीं होगा, बल्कि समूह के बाकी सदस्य भी मददगार के रूप में उसके साथ होंगे. उसके दुःख को बांटने, लक्ष्य तक पहुंचने में उसका साथ देने के लिए. यही विश्वास मनुष्य को काफी संबल देता है और उसे डर, अवसाद, हताशा, कुंठा जैसी भयावह स्थितियों से बचाए रखता है. साझेपन की अनुभूति मनुष्य के आत्मविश्वास को सुरक्षित बनाए रखती है, जिससे उसका मनुष्यता के प्रति विश्वास अक्षुण्ण तथा सोच सकारात्मक बना रहता है. इससे उसके प्रयासों में गंभीरता आ पाती है.

उपर्युक्त के अतिरिक्त तेजी से परिवर्तनशील सामाजिकराजनीतिक परिस्थितियां, आर्थिक परिवेश, लोकचेतना, परोपकार की भावना आदि अनेकानेक कारण हैं, जो व्यक्ति को सहकारी प्रयासों की प्रेरणा देते हैं. उसे एकदूसरे के करीब लाने, परिस्थितियों को समझने के लिए बाध्य करते हैं. निरंतर बदलती वैश्विक परिस्थितियां भी, जिनमें पूंजी का असंयत निवेश, विशेषकर ऐसे क्षेत्रों में जिनका मनुष्य के वास्तविक विकास से कोई संबंध ही न हो, प्रकारांतर में सहकारिता आंदोलन के उत्थान में सहायक हैं. इससे उसे लगता है कि अपने हितों के लिए उसे स्वयं ही प्रयास करने होंगे. ऐसी ही परिस्थितियों के बीच से आधुनिक सहकारिता आंदोलन का विकास हुआ है. विषम परिस्थितयां व्यक्ति को संघर्ष के लिए पे्ररित करने में न केवल सहायक होती हैं, साथ ही उसको सामाजिक रूप से चैतन्य भी बनाती हैं.

सहकारिता मानवीय चेतना को विकास की ओर उन्मुख करने के साथसाथ, उसके लिए उपयुक्त अवसर भी उपलब्ध कराती है. सभ्यता के प्रारंभ से ही मनुष्य में आगे बढ़कर काम करने की प्रवृत्ति रही है. सहकार उस प्रवृत्ति के बिलकुल उलट है, जब मनुष्य निजी स्वार्थों को महत्त्व देते हुए केवल आत्मकल्याण में लीन रहता है. अपनी लालसाओं की पूर्ति के लिए वह विकास का कोई भी सूत्र थामने को उत्सुक होता है, जिसके लिए समाज की मौजूदगी केवल समर्थक परिवेश और वातावरण अथवा स्वार्थसाधन के माध्यम के रूप में होती है. संक्षेप में सहकारिता मनुष्यता के सपने को जीने का पवित्र सिद्धांत तथा आत्मनिर्भरता की स्थिति को साकार करने का आदर्श उपक्रम है, जिसे पूरी दुनिया में अनेक बार आजमाया जा चुका है.

जीवन की जटिलताओं तथा परिस्थितिवश भी यह संभव नहीं है कि प्रत्येक मनुष्य असीमित दायित्वों का भार वहन कर सके. इस कारण तथा संसाधनों की अपर्याप्तता के चलते, मनुष्य पारस्परिक सहयोग की ओर आकृष्ट होता है. फलतः समूह के भीतर आवश्यक सेवाओं और वस्तुओं का आदानप्रदान होने लगता है. इससे समूह के सदस्यों को विकास के अनुकूल वातावरण तथा अपेक्षित साधन सहज ही प्राप्त होने लगते हैं अथवा कम से कम उनकी उपस्थिति की संभावना बढ़ जाती है. उस अवस्था में समूह का प्रत्येक सदस्य शेष समूह की आकांक्षापूर्ति में भी अपना योगदान देता है; जो अंततः संपूर्ण समाज एवं राष्ट्र की विकासधारा को प्रभावित करने में सक्षम होता है और आगे चलकर पीढ़ियों तक प्रेरणा की सामग्री उपलब्ध कराता रहता है.

सहकारिताः एक संस्कार

उपर्युक्त विवेचन से तय है कि समाज में अकेले व्यक्ति का कोई भविष्य नहीं है, न ही उसके विकास का कोई अर्थ है. वस्तुतः विकास हो या सुख, ये सभी सापेक्षिक स्थितियां तथा मनोवृत्तियां हैं; जो समाज के साथ ही अपनी सार्थकता सिद्ध कर सकती हैं. अतएव सामाजिक नियमों का गठन भले ही मनुष्य की अंतःप्रेरणा तथा दूसरी जरूरतों के कारण हुआ हो, संबंधों के विकास के पीछे जैविक कारण रहे हैं. सामाजिकता तो उन्हें बदलते समय के अनुरूप परिभाषित एवं अनुकूलित करने का कार्य करती रही है.

यहां पर यह उल्लेख करना अत्यावश्यक है कि सहकारिता आकस्मिक उद्वेग अथवा स्वार्थसाधन के लिए किया गया अल्पकालिक तालमेल नहीं है. ना ही यह पारस्परिक सहयोग, अवसरानुकूल तालमेल की क्षणभंगुर व्यवस्था है. अपने आधुनिक संदर्भों में सहकारिता भले ही वर्तमान युग की देन रही हो, मगर सभ्यता की शुरुआत से ही सहयोग और सहकार हमारी संस्कृति और संस्कारों का अभिन्न हिस्सा रहे हैं. यद्यपि कार्य की प्रकृति और आवश्यकता के अनुसार अल्पकालिक सहकारी संगठन बनाए जा सकते हैं और बनाए जाते भी रहे हैं, तथापि अपने बृहद संदर्भों में सहकार एक सुनियोजित एवं सोचीसमझी व्यवस्था है. यह व्यक्ति के भीतर यह एहसास निरंतर जगाए रहती है कि मनुष्यता की दृष्टि से अकेलापन कोई उपलब्धि नहीं है, कि अकेले मनुष्य का न तो वर्तमान है न ही भविष्य; बल्कि सबके होने के साथ ही उसके होने की सार्थकता है. सबके साथ मिलकर सुनियोजित प्रयास से न केवल विकास के इच्छित लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है; बल्कि आसन्न आपदाओं तथा जीवन की दूसरी चुनौतियों पर काबू भी पाया जा सकता है.

यह मनुष्य की उस एकांगी और स्वार्थमयी विचारधारा का भी निषेध करती है, जिसके अनुसार वह अपनी निजता को सर्वोपरि मानते हुए— सामूहिक हितों की उपेक्षा करता है अथवा निजता को सामाजिकता के आगे वरीयता देने लगता है. पारदर्शिता, चाहे वह विचारों की हो अथवा व्यवहार की, सहकारी समूह के स्थायित्व एवं प्रामाणिकता की पहली शर्त है. यह मनुष्य की स्वार्थसाधन की हेय प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने का कार्य करती है. यह उस प्रवृत्ति के एकदम विपरीत है जब व्यक्ति शेष समाज की उपेक्षा करता हुआ, केवल अपने स्वार्थों की पूर्ति में तल्लीन रहता है तथा उपलब्ध सामूहिक संसाधनों को अपनी लिप्साओं की पूर्ति के माध्यम के रूप में देखता है, सहकार के नाम पर निहित स्वार्थ अथवा लालच के कारण शेष समूह से जुड़ता है तथा उनके लिए क्षुद्रता की किसी भी सीमा तक गिरने को तत्पर रहता है.

यद्धपि स्वार्थसाधन की प्रवृत्ति की सराहना करने वाले लोग भी समाज में हो सकते हैं. यदि वे हैं और ऐसा करते भी हैं, तब समूह के साथसाथ उसके सदस्य विशेष का दायित्व होता है कि वह अपने वास्तविक हितों की पहचान करते हुए, आचरण करे और नैतिकता की भावना को आहत न होने दे. बात जब समाज की आती है, भले ही वह अत्याधुनिक विकसित समाज हो, जिनमें संबंधों की डोर शिथिल पड़ती जाती है तथा सामाजिक न्याय पर व्यावसायिकता हावी होने लगती है. सामाजिक रिश्ते तेजी से व्यावसाय आधारित अनुबंधों में ढलते चले जाते हैं. ऐसे समाजों में भी स्वार्थमय आचरण को सम्मान्य नहीं माना जाता, न ही उसको श्रेयस्कर की गरिमा मिल पाती है. समाज में वही उपक्रम आदर्श एवं प्रशंसनीय माना जाता है, जो सामाजिकता की मर्यादा और विकास के मानवीय लक्ष्यों को प्राप्त करने में सक्षम होता है. साथ ही जो संपूर्ण समाज के संतुलित विकास के पक्ष में खड़ा होता है.

सहकारिता की भावना, व्यक्ति को उसके विशिष्टताबोध के अनुचित एवं अवांछित दबावों से मुक्त रखती है; जिनके कारण वह दूसरों को आकर्षित करने की कोशिश करता रहता है. सहकार, पारस्परिक सहयोग के साथ संपूर्ण समाज के समन्वित विकास एवं उसकी एकात्मकता को बढ़ाने वाली भावना और तत्संबंधी प्रयासों का नाम है. यह सामाजिक सुरक्षा के साथसाथ उसके प्रत्येक सदस्य के विकास के प्रति आश्वस्ति भी है. यह मनुष्य को उन दुष्चिंताओं, डरों और तनावों से दूर रखता है, जो उसे अकेलेपन या आसन्न संकटों की संभावना के रूप में आक्रांत करते रहते हैं. सहकारी समाज में मनुष्य की निजी इच्छाएं, आकांक्षाएं, अपने समूह और समाज की कतिपय महत्त्वपूर्ण आकांक्षाओं के साथ इतनी घुलमिल जाती हैं कि वह सामूहिक हितसाधन में ही अपने हितों की पूर्णता देखने लगता है. स्वयंस्फूर्त भावना के साथ वह शेष समाज के हितरक्षण के लिए यथासामथ्र्य सहयोग करता है. दूसरी ओर समाज भी अपने दायित्वों के अनुपालन में अपने प्रत्येक सदस्य की आवश्यकताओंइच्छाओं को ध्यान में रखकर, उनकी पूर्ति के लिए यथोचित वातावरण बनाने के साथ, अपेक्षित सहयोग भी प्रदान करता है. इस तरह सहकार द्विपक्षीय सहयोग का सिलसिला है, जिसके एक सिरे पर मनुष्य और उसके संसाधन तथा दूसरे सिरे पर, पूरक के रूप में उसका अपना समाज तथा शेष समूह विद्यमान रहता है.

पारस्परिक सहयोग की भावना मनुष्य में सभ्यता के प्रारंभिक वर्षों से ही विद्यमान रही है. आदिम मनुष्य जिन दिनों अपने अस्तित्व की रक्षा हेतु संघर्ष कर रहा था, अकेला या समूह के रूप में, और जिन दिनों पारिवारिक संस्था का विकास तक नहीं हो पाया था, जिन दिनों मनुष्य अपने झुंड का केवल एक सदस्य या कि एक प्राणिमात्र था और उसके संबंध केवल दैहिक आवश्यकताओं पर आधारित थे. सामाजिकता के बदले जब वह केवल अपनी प्राकृतिकजैविक आवश्यकताओं की पूर्ति पर ध्यान देता था. संबंध अपरिभाषित थे तथा उनमें स्थायित्व के स्थान पर केवल तात्कालिकता थी— उन दिनों, जी हां, उन दिनों भी सहकारभावना अपने पूरे एहसास और समर्पण भावना के साथ विद्यमान थी और इतनी विस्तीर्ण भी थी कि मनुष्य प्रकृति की प्रत्येक वस्तु को अपना मित्रहितैषी मानता था. निर्जीव ग्रहनक्षत्रों से उसका अपनापन था. दुनिया के सभी धर्मग्रंथ मैत्री की इसी उदात्त भावना और पवित्र स्तुति से भरे पड़े हैं. हालांकि उसका स्वरूप आधुनिक सहकारिता से भिन्न और अनौपचारिक था. आधुनिक सहकारिता सिद्धांत के बीज तत्व पारस्परिक सहयोगसमर्पण की उसी पवित्र भावना में खोजे जा सकते हैं.

ग्रामीण जीवन तो शुरू से ही परस्पर सहयोग एवं सहभागिता के सिद्धांत को अपनाता आया है. न केवल अपनी भौतिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए, बल्कि सांस्कृतिक स्तर पर भी सहकार वहां संबंधों को स्थायित्व एवं आत्मीयता प्रदान करने का प्रमुख कारण रहा है. पर्वत्योहारों से लेकर फसलों की कटाई, मेलेउत्सव, यहां तक कि गांवों में छप्पर छवाने का काम भी सहयोग भावना से मिलजुलकर किया जाता रहा है. सहकारिता का विधायी और सांगठनिक स्वरूप, पंजीकृत सहकारी संगठनों के माध्यम से निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति, उनीसवीं शताब्दी की देन है. प्राचीन भारतीय वांङ्मय में ‘सर्वे भवंतु सुखिनः सर्वे संतु निरामयाः’, ‘कामयेः दुःखताप्तानाम्, प्राणिनाम् आर्तिनाशनम्’ तथा ‘वसुधैव कुंटुबकम्’ की मंगलकामनाएं, शंकराचार्य का सत्चित्आनंद, सुकरात का ‘शुभ’, प्लेटो का कल्याणकारी समाज का सपना, महावीर स्वामी का ‘कैवल्य’ आदि सभी में सहकारिता के सिद्धांत के बीजतत्व मौजूद रहे हैं. धर्म का लक्षण ही मानवमात्र की कल्याण कामना करते हुए स्वयं को अधिक से अधिक नैतिक बनाना है. ये सभी चूंकि समाज में सहस्राब्दियों से विद्यमान हैं, इसलिए सहकार की उपस्थिति भी सामान्य रूप से सभी जगह है. बावजूद इसके, सहकारिता का जनक, या कि प्रमुख प्रणेता होने का श्रेय राबर्ट ओवेन को ही दिया जाना चाहिए. क्योंकि सामूहिक लक्ष्यों और दायित्वों का निर्धारण करते हुए, जनतांत्रिक भावना पर आधारित समूह का गठन और फिर सर्वकल्याण के लिए संगठित प्रयासों की पहली कोशिश उसी ने की थी. जिसके लिए उसने अपने समस्त संसाधनों को होम दिया था.

इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि सहकारिता की ओर ध्यान या कहें कि इसके विधानिकीकरण की कोशिशें तभी शुरू हुईं, जब शिक्षित वर्ग का ध्यान उसकी ओर गया. दरअसल लोकतंत्र एवं शिक्षा के कारण लोगों में अपने आसपास की स्थितियों और घटनाओं को गहराई से समझने तथा दुरवस्था ने निपटने की कोशिशें लगातार चलती रहीं. उससे पहले इन जिम्मेदारियों को भगवानभरोसे छोड़ा जा सकता है. हालांकि तब भी सहकारिता की वास्तविक शक्ति, अर्धशिक्षित तथा उत्पीड़न के शिकार ऐसे लोग रहे जिनकी महत्त्वाकांक्षाएं बहुत सीमित थीं, जिनके पास संसाधनों का अभाव था, लेकिन स्थितियां एक समान थीं और नैतिकता के आग्रह इतने प्रबल थे कि वे सामाजिक हितों के आगे अपने हितों का निःसंकोच बलिदान भी कर सकते थे. प्रारंभिक सफलता के पश्चात आगे चलकर इसके माध्यम से कतिपय बड़े और दीर्घकालिक उद्देश्यों के लिए काम हो सका. सहकारी समूहों को मान्यता मिलने से उन्हें सरकार द्वारादृऋण मिलना आसान हो गया, उन्हें अपेक्षित सम्मान भी मिलने लगा जिससे सहकारिता की ओर पूरी दुनिया का ध्यान गया. और जगहजगह अपनी स्थितियों के अनुरूप उसको अपनाया भी गया.

सहकार के जिस स्वरूप से आज हम परिचित हैं— वह एक विदेशी अवधारणा है. जिसके बीजतत्व औद्योगिक क्रांति द्वारा पोषित असमान विकास में सन्निहित हैं. वस्तुतः सोलहवीं शताब्दी के बाद से यूरोप में आई औद्योगिक क्रांति ने पूंजीपतियों के हाथों में ऐसी क्षमतावान मशीनें सौंप दी थीं, जिनसे उनकी मानवीय कौशल पर निर्भरता घटी थी. ऐसी मशीनों के लिए प्रारंभिक निवेश की मात्रा उच्च थी, लेकिन उनकी उत्पादनक्षमता भी अद्भुत थी. नई प्रौद्योगिकी के आगमन के बाद पूंजीपतियों को लगने लगा था कि वे केवल पूंजी के दम पर मनचाहा मुनाफा खींच सकते हैंकि नई प्रौद्योगिकी वरदान है, जिसके द्वारा मजदूरों और शिल्पकारों से मुक्ति संभव हैं.

इसी विचारधारा ने उन्हें निरंकुश और स्वार्थी बना दिया था, उनमें अधिकाधिक मुनाफा कमाने की होड़ मची हुई थी. अधिक मुनाफे के लिए वे कारखानों में कार्यरत श्रमिकों ने मनचाहा काम तो लेते ही थे, बाजार में उत्पाद को मनमाने दामों पर बेचते भी थे, रोजमर्रा की वस्तुओं में मिलावट की शिकायत बिलकुल आम थी, जिससे महंगाई आसमान छूने लगी थी तथा आम नागरिक का जीवन बहुत कठिन होता जा रहा था. सरकार पर चूंकि पूंजीवादी शक्तियों का दबाव रहता था. अतः अपने प्रभाव के दम पर वे ऐसे कानून बनवाने में सफल रहते थे जो उनके मुनाफे को तो बढ़ाते हों, किंतु मानवीय श्रम एवं कौशल का विरोध करते हों.

सोलहवीं शताब्दी के वैज्ञानिक आविष्कारों के प्रभाव से अठारहवीं शताब्दी बीततेबीतते यूरोपीय समाज में सामंतशाही और गुलामियत से मुक्ति के लिए छटपटाहट शुरू हो चुकी थी. नवजागरण का नारा हवा में था. देकार्ते के बुद्धिवादी चिंतन से प्रेरणा लेते हुए बेंथम, जेम्स मिल, पू्रधों तथा जान स्टुअर्ट मिल जैसे विचारकों ने व्यक्तिवादी चिंतन को आगे बढ़ाया था. फलतः इतिहास में पहली बार आम आदमी को केंद्रबिंदु बनाकर सोचने की शुरुआत हुई. अर्थशास्त्र के क्षेत्र में भी संत आगस्टीन, रिकार्डो, एडम स्मिथ जैसे उदारवादी अर्थशास्त्री आगे आए थे; जो आर्थिक नीतियों में खुलेपन के समर्थक थे तथा योजनाओं को जनोन्मुखी बनाने के पक्षधर थे. उन्होंने नीतियों की समीक्षा करते हुए एक बौद्धिक वातावरण ही संरचना की जिससे बाजार की परंपरागत नीतियों पर पुनर्वीक्षा की मांग भी की जाने लगी.

नवचेतना की यह लहर वंचित और उपेक्षित वर्ग के बीच भी फैली हुई थी. यह वर्ग सहस्राब्दियों से समाज के साधनसंपन्न वर्ग के शोषण का शिकार होता आया था. सपनों के हवामहल दिखाने वाले शासकों तथा उनके द्वारा बनाई गई व्यवस्था से उसका विश्वास खंडित हो चुका था. उसे लगने लगा था कि ऐच्छिक विकास का रास्ता केवल निजी प्रयासों से ही संभव है. उजला भविष्य उसके अपने ही श्रम की कोख से जन्म लेगा, जिसमें उसके अपने ही समूह की साझेदारी होगी, ऐसा उसको आभास हो चला था.

ऐसे ही संक्रांतिपूर्ण माहौल में सहकारिता की रूपरेखा तय की गई थी, अनायास नहीं, लंबे अनुभव के पश्चात, खूब सोचविचार के बाद. हम पहले भी लिख चुके हैं कि— सहकारिता का उद्भव समाज में मौजूद सहस्राब्दियों पुरानी सहयोग की परंपरा से ही हुआ है. आपसी सहयोग की उसी सनातन परंपरा को सामूहिक विकास और उत्पादकता से जोड़ते हुए सहकारिता की रूपरेखा गढ़ी गई. कह सकते हैं कि आमजन की अस्मिता की रक्षा एवं पूंजीवाद के संकट से बचाव के रूप में सहकारिता का जन्म हुआ था. दूसरे शब्दों में पूंजीवादी खतरों की प्रतिक्रिया में उत्पन्न मध्यमवर्गीय चेतना का परिणाम ही सहकारिता है.

प्रारंभ में सहकारिता आंदोलन केवल उपभोक्ता सामग्री के वितरण तक सीमित था, जिसकी पहंुच केवल श्रमिक बस्तियों तक थी. रोशडेल पायनियर्स समूह के अधिकांश सदस्य गरीब और अल्पशिक्षित बुनकर थे. वे पूंजीवादी दबावों और बढ़ती महंगाई से तंग आ चुके थे. पहले पहल उन्होंने सहकारी उपभोक्ता भंडारों की शुरुआत की, जिसको व्यापक जनसमर्थन प्राप्त हुआ. अनेक उतारचढ़ावों के बाद वह आंदोलन विस्तार ग्रहण करता गया. नएनए लोग उससे जुड़ते चले गए. उत्पादकता से जुड़े दूसरे क्षेत्रों में भी सहकारी संगठन बनाए गए. बाद में राज्य सरकारें भी सहकारी आंदोलन की समर्थक बनकर उससे जुड़ती चली गईं. उन्हें लगा कि सहकारी संस्थाएं सरकार के कल्याण कार्यक्रमों में उसकी मदद कर सकती हैं. सरकारों को अपने दायित्व के निवर्हन के लिए जिस प्रकार के जिम्मेदार संगठनों की आवश्यकता पड़ती है, सहकारी समितियांे वे सभी गुण थे. इसीलिए सहकारिता को सरकारी समर्थन, चाहे वह किसी भी दल अथवा विचारधारा की हो, मिलना आवश्यक था. सहकारिता के विकास में यह भी महत्त्वपूर्ण कारण रहा है.

भारत में इस सहकारिता आंदोलन की शुरुआत कतिपय विलंब से, बीसवीं शताब्दी के प्रारंभिक वर्षों में, तत्कालीन ब्रिटिश सरकार के प्रयासों के फलस्वरूप हुई. तब से आज तक यह आंदोलन एक शताब्दी से भी लंबा सफर तय कर चुका है. जमीनी स्तर पर सहकारिता की उपलब्धियां सराहनीय रही हैं. आज हालात यह हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था से यदि सहकारी संस्थाओं के योगदान को निकाल दिया जाए तो वह कंकाल में बदल जाएगी. न केवल अर्थव्यवस्था बल्कि समाजव्यवस्था को कायम रखने में भी सहकार की भारी उपयोगिता रही है. भारत के साथसाथ ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, डेनमार्क, नार्वे, चीन, अमेरिका, कनाडा आदि लगभग सभी देशों में सहकारिता आंदोलन की उपलब्धियां सराहना योग्य हैं, जिन्हें भुला पाना अथवा जिनकी उपेक्षा कर पाना नामुमकिन है.

इन दिनों अनियोजित विकास तथा आधुनिकता के दबावों के चलते भारतीय ग्रामव्यवस्था का परंपरागत ढांचा चरमायी बुरी तरह से चरमराया हुआ है. ग्रामीण क्षेत्रों में, पहले जहां अनौपचारिक सहकारी प्रयास अक्सर देखने को मिल जाते थे, सहयोग की जहां सहजस्वाभाविक उपस्थिति थी, संबंधों में जहां आत्मीयता रहती थी, वहां आजकल बाजारवाद अपने पांव जमाने में लगा है. जिस मानवीय उदारता की हमारे गांव मिसाल हुआ करते थे, वह तेजी से गायब होती जा रही है, बल्कि कहना चाहिए कि बाजार के दबावों के आगे दम तोड़ चुकी है, जिससे वहां पर भारी आपाधापी का माहौल है.

कल्याण राज्य का सपना देखने वालों के लिए सहकारिता एक अनिवार्य उपक्रम है. यह लोगों को आत्मविश्वासयुक्त एवं आत्मनिर्भर बनाने के लिए जरूरी है, ताकि सरकार पर उनकी निर्भरता कम से कम हो सके. एक आदर्श राज्य के लिए बहुत जरूरी है कि व्यक्ति, समाज और सरकार के संबंध परस्पर अन्योन्याश्रित हों. उनमें कहीं भी विवशता अथवा परावलंबनता दिखाई न पड़े. तभी समाज एवं सरकार अपनेअपने दायित्व का अनुपालन कर सकते हैं. सहकार भावना केवल सजग और चैतन्य समाज में ही संभव है, जबकि आत्मचेतित समाज के लिए यह अत्यावश्यक होता है कि उसके सदस्यों में सहयोग और समर्पण का भाव तो हो, मगर परावलंबन की भावना हरगिज न हो. इसलिए समेकित विकास के लक्ष्य के लिए सहकारिता एक अनिवार्य उपक्रम बन जाती है जिसका उपयोग पिछले डेढ़ सौ वर्षों से लगातार विभिन्न मंचों पर, नाना प्रतिरूपों में दिखाई पड़ने लगा है.

©ओमप्रकाश कश्यप

टिप्पणी करे

Filed under सहकार : एक संस्कार

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s